Gangubai Kathiawadi controversy: संजय लीला भंसाली पर भड़का गंगूबाई का परिवार, कहा- मां सोशल वर्कर थीं, वेश्या नहीं

0
64

‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ (Gangubai Kathiawadi) के दमदार ट्रेलर ने दर्शकों को खूब लुभाया और फैन्स इस फिल्म का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। हालांकि इस ट्रेलर के बाद फिल्ममेकर्स के लिए भारी मुसीबत भी सामने आ खड़ी हुई है। इस फिल्म की कहानी को लेकर मेकर संजय लीला भंसाली और राइटर हुसैन जैदी पर मानहानि का दावा किया गया है। ‘गंगूबाई’ के परिवार वाले अब इस फिल्म की कहानी पर आपत्ति जता रहे हैं। यह परिवार फिल्म के खिलाफ कोर्ट तक भी पहुंच गया है।

परिवार वालों का आरोप है कि इस फिल्म में उनकी मां यानी गंगूबाई को प्रॉस्टिट्यूट के रूप में दिखाया गया है जो कि वास्तव में सोशल वर्कर थीं।
आज तक में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, गंगूबाई की फैमिली के वकील नरेंद्र ने कहा है, ‘ट्रेलर के बाद से परिवार सदमे में है। उन्होंने बताया कि जिस तरह से गंगूबाई की इमेज को दर्शाया जा रहा है, वो पूरी तरह गलत और वल्गर है। आप एक सोशल वर्कर को प्रॉस्टिट्यूट की तरह पेश कर रहे हैं। उन्हें आपने वैम्प और लेडी माफिया बना दिया है। दूसरी बात ये है कि हमारे यहां के सिस्टम का मसला ये है कि अगर आपके घर की इज्जत सरेआम नीलाम हो रही है, तो यहां उनकी इज्जत को बचाने के बजाए बेटे से ही सबूत मांगा जा रहा है कि वो उनके बेटे हैं इसे प्रूव करो। हालांकि हमने इसे नीचे कोर्ट में साबित कर दिया है, लेकिन अब हमारे मामले में कोई सुनवाई नहीं हो रही है।’

बताया जा रहा है कि गंगूबाई के बेटों को पता भी नहीं था कि उनकी मां पर कोई किताब लिखी गई है और साल 2020 में जब फिल्म के प्रोमो के साथ मां की तस्वीर देखी तब उन्हें पूरी बात का पता लगा। परिवार वालों का दावा है कि उन्हें इस वजह से उनके ही रिश्तेदार काफी अनाप-शनाप बोल रहे हैं, जिस वजह से उन्हें इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। उनका कहना है कि उन्हें जानने वाले यह कहकर ताना मार रहे हैं कि तुमलोग तो उन्हें सोशल वर्कर बताते थे, लेकिन स कुछ औऱ है। कहा जा रहा है कि इन वजहों से उनका परिवार काफी उलझनों से गुजर रहा। कहा गया है कि इसे लेकर संजय लीला भंसाली और राइटर हुसैन जैदी को भी नोटिस भेजा गया है, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया है।

गंगूबाई के गोद लिए बेटे बाबूरावजी शाह ने आजतक से इस बारे में बात की। उन्होंने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा, ‘मेरी मां को तो प्रॉस्टिट्यूड बनाकर रख दिया। मेरी मां के बारे में लोग अब तरह-तरह की बातें कर रहे हैं। मुझे नहीं अच्छा लगता है।’

उनकी नतिनी भारती का कहना है कि इन मेकर्स हमारे परिवार को डी-फेम कर दिया है, इसे बिल्कुल भी एक्सेप्ट नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि न तो किताब लिखते वक्त और न फिल्म बनाते समय उनसे इस बारे में कोई परमिशन नहीं ली गई।

उन्होंने कहा, ”हम एक ओर जहां गर्व से अपनी नानी के किस्से लोगों को सुनाया करते थे। फिल्म के ट्रेलर के सामने आने के बाद तो हमारे परिवार की इज्जत की धज्जियां उड़ गई हैं। लोग कहने लगे हैं कि आपकी नानी तो प्रॉस्टिट्यूट थीं। मेरी नानी ने जिंदगी भर कमाठीपुरा के प्रॉस्टिट्यूट के उत्थान के लिए काम किया है। इन लोगों ने तो मेरी नानी को क्या से क्या बना दिया है। हमें तो लोग अब प्रॉस्टिट्यूट की औलाद कह कर बुला रहे हैं।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here