जब बच्‍चा करने लगे ये 5 काम, तो खुशी से झूम उठते हैं पैरेंट्स

0
44

पैरेंटिंग एक ऐसा सफर होता है जो शायद कभी खत्‍म नहीं होता है। जब आप खुद इस चीज को एक्‍सपीरियंस करते हैं, तो आपको समझ आता है कि इसमें कोई सलाह या मार्गदर्शन काम नहीं आता है और आपको खुद ही अपना रास्‍ता बनाना पड़ता है। किसी की सलाह से आपका रास्‍ता आसान नहीं होता क्‍योंकि हर किसी की मुश्किलें अलग होती हैं।

वहीं इस बात पर भी ध्‍यान दें कि पैरेंटिंग का सफर सिर्फ मुश्किलों से भरा नहीं होता है बल्कि इसमें बहुत सारे सरप्राइज भी मिलते हैं। जब आपका बच्‍चा अपना पहला कदम चलता है, पहले शब्‍द बोलता है और कई चीजें पहली बार करता है, तो आपकी पैरेंटिंग के मील के पत्‍थर यानि माइलस्‍टोंस साबित होते हैं। कई पैरेंट्स ने अपने बच्‍चों की इन चीजों का एक्‍सपीरियंस शेयर किया जबकि कुछ पैरेंट्स का कहना था कि उन्‍होंने से कीमती पल मिस कर दिए। पैरेंटिंग के सफर में कई ऐसे मौके आते हैं जहां आपको दुखी होने की बजाय खुश होना चाहिए कि मुश्किल होते हुए भी आपने उस पल को बड़ी मजबूती से काटा। यहां हम आपको कुछ ऐसे माइलस्‍टोंस बता रहे हैं जिन्‍हें लेकर पैरेंट्स को दुखी होने के बजाय उन्‍हें सेलिब्रेट करना चाहिए।

​पहली बार खाना पकाना

बच्‍चा होने से पहले जाहिर सी बात है कि आप काफी फ्री होते हैं लेकिन बेबी के आने के बाद आपको अपने काम उसके साथ ही करने पड़ते हैं। ऐसे में आप बच्‍चे को गोद में लेकर एक हाथ से खाना पकाने में माहिर हो जाते हैं। ये आपके स्किल्‍स को और बढ़ाने का काम करता है जिसे आपको जरूर सेलिब्रेट करना चाहिए।

​बच्‍चे का पहला कदम

navbharat times

हर माता-पिता को अपने बच्‍चे के पहले कदम चलने का बेसब्री से इंतजार रहता है और जब आपका बच्‍चा अपने पहले कदम उठाता है, तो आपको अपनी पैरेंटिंग के इस अनमोल पल को सेलिब्रेट करना चाहिए।

​मां या पापा बोलना

navbharat times

हर बच्‍चा अलग होता है और ऐसा जरूरी नहीं है कि सारे बच्‍चे एक ही उम्र में बोलना सीखें लेकिन जब तक बच्‍चा बोलना शुरू नहीं करता, मां-बाप चिंता में रहते हैं। लेकिन जब पहली बार बच्‍चा मां या पापा बोलता है, तो आपको इसे सेलिब्रेट करना चाहिए और अपनी खास यादों में शुमार कर लेना चाहिए।

​आपको समझे रोल मॉडल

navbharat times

बच्‍चे अपने पैरेंट्स को देखकर ही सीखते हैं। जब आपका बच्‍चा आपको देखकर कुछ अच्‍छा काम करे या उसे लगे कि आप एक अच्‍छे माता या पिता हैं, तो आपको इस खुशी को सेलिब्रेट करने से नहीं चूकना चाहिए। बच्‍चों का अपने पैरेंट्स को रोल मॉडल समझना बहुत बड़ी बात है।

​अच्‍छा परफॉर्म करना

navbharat times

जब बच्‍चे स्‍कूल में या किसी कॉम्पिटिशन में अच्‍छा परफॉर्म करते हैं, तो इसका श्रेय उनकी मेहनत को तो जाता ही है लेकिन इसमें उनके पैरेंट्स का भी बहुत बड़ा योगदान होता है। आपके बच्‍चे ने अपनी लाइफ में कुछ अच्‍छा हासिल किया है या उसे सफलता मिली है, तो आपको भी इसे सेलिब्रेट करना चाहिए क्‍योंकि ये आपकी पैरेंटिंग का ही नतीजा है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here