Long covid symptoms : कोरोना से ठीक होने के बाद भी इन गंभीर लक्षणों से निकल रहे हैं बच्‍चों के आंसू, नजरअंदाज करने पर जा सकती है जान

0
175
Long covid symptoms : कोरोना से ठीक होने के बाद भी इन गंभीर लक्षणों से निकल रहे हैं बच्‍चों के आंसू, नजरअंदाज करने पर जा सकती है जान

 

​बताया है Long Covid-19

इस अध्‍ययन की मानें तो कोरोना से रिकवर होने के बाद कोरोना के मरीज लंबे समय तक इसके लक्षणों और खराब सेहत से ग्रस्‍त हो रहे हैं।

कोरोना से लड़कर ठीक होने के बाद बच्‍चों को लंबे समय तक इसके लक्षणों से जूझना पड़ रहा है। यहां तक कि जिन बच्‍चों में हल्‍के लक्षण दिखे हैं, उन्‍हें भी लंबे समय तक बीमार रहने की परेशानी हो रही है।

कोरोना होने के बाद रिकवर होने पर भी बच्‍चों में कुछ लक्षण दिखाई दे रहे हैं, जो उन्‍हें लंबे समय तक प्रभावित कर रहे हैं। आगे जानिए कि 16 साल से कम उम्र के बच्‍चों में पोस्‍ट-कोविड के क्‍या लक्षण हैं।

यह भी पढ़ें : घर पर क्‍वारंटीन हुए कोरोना पॉजीटिव बच्‍चे को इन चीजों की पड़ती है जरूरत, जानें कब आती है अस्‍पताल जाने की नौबत

​बहुत ज्‍यादा थकान

navbharat times

कोरोना के बाद वयस्‍कों को बहुत ज्‍यादा थकान महसूस हो रही है और अध्‍ययनों की मानें तो बच्‍चों में भी ऐसा होने लगा है। कोरोना से ग्रस्‍त होने के बाद बच्‍चों को थकान, जोड़ों, जांघों, सिर, हाथों और पैरों में दर्द महसूस हो रहा है। कुछ मामलों में बच्‍चों में 5 महीने से भी ज्‍यादा समय तक थकान बनी रह सकती है।

यह भी पढ़ें : कोरोना की चपेट में न आए मासूम, इसलिए माता-पिता को रखना होगा इस बात का ध्‍यान

​नींद आने में दिक्‍कत

navbharat times

नींद पूरी न होने या गहरी नींद न आने पर दो से 16 साल के बच्‍चों का विकास प्रभावित हो सकता है और उनमें बौद्धिक और विकासात्‍मक कमी आ सकती है। कोरोना वायरस से लड़ रहे बच्‍चों में भी अब नींद आने में दिक्‍कत की परेशानी देखी जाने लगी है। कोरोना से ग्रस्‍ट 7 पर्सेंट से भी ज्‍यादा बच्‍चों को किसी न किसी तरह की नींद से जुड़ी परेशानी हो रही है।

वायरस होने के बाद डर, चिंता और आइसोलेट होने की वजह से भी बच्‍चे परेशान हैं जिसका असर उनकी नींद पर पड़ रहा है। कोरोना से अनिद्रा की समस्‍या वयस्‍कों के साथ-साथ बच्‍चों में भी हो रही है।

यह भी पढ़ें : रात में सोता नहीं है बच्‍चा तो उसे खिलाएं ये Special Foods

​मूड स्विंग्‍स

navbharat times

लंबे समय तक कोरोना से पीडित रहने वाले बच्‍चों में चिड़चिड़ापन होने का खतरा भी ज्‍यादा है। इससे आने वाले सालों में उन्‍हें मूड स्विंग्‍स की दिक्‍कत हो सकती है। लगभग 10 पर्सेंट बच्‍चों ने याद्दाश्‍त में दिक्‍कत आने, ज्‍यादा थकान महसूस होने और ध्‍यान लगाने में दिक्‍कत होने की बात कही है। इससे बच्‍चों की जीवन का स्‍तर भी गिर सकता है।

इसके अलावा कोरोना के बाद बच्‍चों में चक्‍कर आने और नसों से संबंधित समस्‍याएं भी हो सकती है। बच्‍चों के कोरोना से ठीक होने के बाद तेज सिरदर्द, चक्‍कर आने और थकान जैसे लक्षणों को नजरअंदाज न करें।

पेट की परेशानियां

navbharat times

कोरोना से ग्रस्‍त होने के दौरान बच्‍चों ने गैस्‍ट्रोइंटेस्‍टाइनल लक्षणों की भी शिकायत की है। इसमें पेट दर्द और पाचन से जुड़ी समस्‍याएं शामिल हैं। यहां पर इस बात पर भी ध्‍यान देना चाहिए कोरोना से होने वाले तनाव और एंग्‍जायटी से भी पेट खराब होता है।

Source link