‘सॉरी! मैं रिप्लाई नहीं कर पाया…’, एक्सपर्ट ने बताए डिप्रेशन के 9 नए लक्षण

0
17
'सॉरी! मैं रिप्लाई नहीं कर पाया...', एक्सपर्ट ने बताए डिप्रेशन के 9 नए लक्षण


New Symptoms of Depression: किसी की मेंटल हेल्थ का अंदाजा लगा पाना बहुत मुश्किल काम है। यह कोई नहीं जानता कि सामने वाला व्यक्ति किस हालत में है? यह अच्छी बात है कि डिप्रेशन के बारे में अब पहले से ज्यादा बात होती है। लेकिन क्या डिप्रेशन के लक्षणों के बारे में हमें पूरी जानकारी है? नेशनल हेल्थ सर्विस की कंसल्टेंट थेरेपिस्ट ने डिप्रेशन के नए लक्षणों के बारे में बताया है।

डिप्रेशन के पुराने लक्षण क्या हैं? डिप्रेशन को मेडिकल भाषा में मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर कहा जाता है। मेयोक्लीनिक के मुताबिक, अवसाद होने पर मरीज लगातार उदासी और अरुचि की स्थिति में होता है। इसके साथ मरीज को रोने, खालीपन, नाउम्मीद, थकावट, नींद ना आना, भारीपन, सोचने की धीमी गति, भूख ना लगना, अचानक वजन घटना जैसी शारीरिक व मानसिक अनुभव हो सकते हैं।

बदल गए हैं डिप्रेशन के संकेत

डिप्रेशन से जूझ रहा व्यक्ति अपनी मानसिक हालत को छिपाने की कोशिश करता है। इसलिए आप ऐसे लोगों को अधिकतर हंसता और नॉर्मल पाएंगे। लेकिन, अक्सर उन्हें अकेले में डिप्रेशन के गंभीर एपिसोड्स का सामना करते हुए देखा जाता है। अब स्मार्टफोन और इंटरनेट कम्युनिकेशन के नए तरीके बन गए हैं और फिजीकली मिलना कम हो गया है। ऐसे में डिप्रेशन के लक्षण भी बदल गए हैं, जो स्मार्टफोन और इंटरनेट पर दिखाई दे सकते हैं।

‘सॉरी, मैं रिप्लाई नहीं कर पाया..’ है अवसाद का संकेत

95735969

साइकोथेरेपिस्ट और एनएचएस कंसल्टेंट निक्की ने नए संकेतों के बारे में बताया है, जो आपको किसी डिप्रेशन के मरीज से सुनने या पढ़ने को मिल सकते हैं।

  1. सॉरी, मैं मैसेज का रिप्लाई नहीं कर पाया/पाई!
  2. मुझे नहीं पता कि क्या कहूं?
  3. मैं तुम्हें परेशान नहीं करना चाहता/चाहती हूं।
  4. मुझे डर था कि मैं तुम्हारा मूड खराब ना कर दूं।
  5. मुझे सही होने के लिए थोड़ा समय चाहिए।
  6. मैं अपनी परेशानी किसी को नहीं दिखाना चाहता/चाहती हूं।
  7. मैं बहुत परेशान हूं और कुछ दिन सभी से दूर रहना चाहता/चाहती हूं।
  8. मिलने या बात करने का मन/एनर्जी नहीं है।
  9. मैं किसी काम का/की नहीं हूं।

रिप्लाई ना करना हो सकता है लक्षण

95735964

थेरेपिस्ट निक्की के मुताबिक, रिप्लाई करने या मिलने के लिए शारीरिक और मानसिक ऊर्जा चाहिए होती है। डिप्रेशन में एनर्जी की कमी रहती है, जिसके कारण रिप्लाई करने या मिलने का मन नहीं करता है। ऐसा दर्द और नकारात्मक विचारों से गुजरने के कारण हो सकता है।

थेरेपिस्ट ने शेयर किया पोस्ट

ऐसे व्यक्ति को अकेला ना छोड़ें

95735960

अगर किसी व्यक्ति में नए और पुराने लक्षण एकसाथ दिखते हैं, तो उसको डिप्रेशन हो सकता है। ऐसे व्यक्ति के बर्ताव को पर्सनल लेकर बुरा ना मानें। मरीज को अकेला नहीं छोड़ें। आप उसे ये महसूस करवाएं कि आप उसके साथ हैं। आपको उनकी परवाह है और अभी उनसे हर रिप्लाई की जरूरत नहीं है। वो जब भी वापिस आना चाहें, उनका स्वागत है। डिप्रेशन के मरीज से सामान्य मिलने या बात करने की कोशिश करते रहें।

सिर्फ वर्तमान के बारे में सोचें मरीज

95735958

डिप्रेशन से निकलने के लिए मरीज को खुद भी कोशिश करनी चाहिए। उसे ध्यान रखना चाहिए कि समय और परेशानी हमेशा बदलती है। अगर आपको कोई रास्ता नहीं दिखाई दे रहा है, तो सिर्फ आज और अभी के पल पर फोकस करें। इससे नकारात्मक विचारों से छुटकारा मिलेगा। खुद को समय दें और ध्यान रखें कि एक दिन चीजें सुधर जाती हैं।

एक्सपर्ट से जरूर मिलें

95735955

डिप्रेशन से निकलने के लिए आपको एक्सपर्ट से मिलना चाहिए। वह आपकी स्थिति सुधारने के लिए जरूरी थेरेपी और दवाओं की सलाह दे सकता है। मानसिक समस्याएं भी एक तरह की बीमारियां हैं, जिनका इलाज करने के लिए प्रोफेशनल की जरूरत पड़ती है।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here