बंबई हाईकोर्ट ने गोवा एसेंबली स्‍पीकर का आदेश रखा था बरकरार, कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में दी फैसले को चुनौती

0
37

Goa Congress chief moves SC: कांग्रेस की गोवा इकाई के अध्यक्ष गिरीश चूडांकर ने बंबई हाईकोर्ट (Bombay High Court verdict) के एक फैसले को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में चुनौती दी है। यह हाईकोर्ट के 12 विधायकों को अयोग्य ठहराने (Disqualification of 12 MLAs) का आग्रह करने वाली दो याचिकाएं खारिज करने के विधानसभा अध्यक्ष के आदेश को बरकरार रखने संबंधी है। मामला 2019 में अपने-अपने दल छोड़कर भाजपा में शमिल हुए विधायकों से जुड़ा है। बंबई हाई कोर्ट की गोवा पीठ ने 24 फरवरी को चूडांकर और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (MGP) के एक विधायक की ओर से दायर अलग-अलग याचिकाओं पर फैसला सुनाया था।

कांग्रेस की गोवा इकाई के अध्यक्ष ने पार्टी के 10 विधायकों से संबंधित मामले में याचिका दायर की थी। ये जुलाई 2019 में भाजपा में शामिल हो गए थे। एमजीपी के विधायक ने भी अपने दो विधायकों से संबंधित मामले में इसी तरह की याचिका दायर की थी जो उसी वर्ष क्षेत्रीय दल से भाजपा में शामिल हो गए थे।

Supreme Court: तिहाड़ जेल में मादक पदार्थ फेंके जाने पर लगे प्रतिबंध, जेल के बाहर लगे पुलिस पिकेट, शीर्ष अदालत ने दिए निर्देश

शीर्ष अदालत में दायर अपनी याचिका में चूडांकर ने कहा है कि उच्च न्यायालय ने ‘गलत आधार’ पर अध्यक्ष के आदेश को बरकरार रखने में ‘गंभीर त्रुटि’ की है।

गोवा विधानसभा अध्यक्ष ने पिछले साल 20 अप्रैल को चूडांकर और एमजीपी विधायक की ओर से दायर अयोग्यता याचिकाओं को खारिज कर दिया था। इसके बाद हाई कोर्ट ने विधानसभा अध्यक्ष के फैसले को बरकरार रखा था।

navbharat times
मनी लॉन्ड्रिंग सोच समझकर किया गया अपराध है, केंद्र सरकार की सुप्रीम कोर्ट में दलील

वर्ष 2017 में 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस 17 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी। लेकिन, 13 सीट जीतने वाली भाजपा ने सरकार बनाने के लिए तुरंत कुछ क्षेत्रीय संगठनों और निर्दलीय उम्मीदवारों के साथ गठबंधन कर लिया था।

नई गोवा विधानसभा के चुनाव के लिए इस साल 14 फरवरी को मतदान हुआ था और मतों की गिनती 10 मार्च को होनी है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here