1 अप्रैल से महंगे हो जाएंगे ये डिवाइस! जानें कितनी बढ़ेगी कीमत

0
52

नई दिल्ली। वित्त मंत्री को केंद्रीय बजट पेश किए लगभग दो सप्ताह हो चुके हैं। बजट भाषण में कई घोषणाएं की गईं जैसे डॉमेस्टिक मैन्यूफैक्चरिंग को कैसे आगे बढ़ाना है। इसमें विशेष रूप से इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट्स को और बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित किया गया। यूएस-आधारित अकाउंटिंग फर्म ग्रांट थॉर्नटन के अनुसार, 1 अप्रैल, 2022 से इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम को प्रस्तावित कस्टम ड्यूटी के साथ मैन्यूफैक्चरिंग महंगा या सस्ता हो सकता है। तो चलिए हम जानते हैं कि आखिर क्यों आपको स्मार्टफोन, हेडफोन आदि पर ज्यादा या कम भुगतान करना पड़ सकता है।

स्मार्टफोन: सस्ता होने की संभावना

सरकार ने मोबाइल फोन चार्जर के ट्रांसफार्मर के पार्ट्स, मोबाइल कैमरा मॉड्यूल के कैमरा लेंस और अन्य सामान पर 5 से 12.5% तक कस्टम ड्यूटी की रियायत दी है। ऐसे में स्मार्टफोन बनाने की निर्माण मैन्यूफैक्चरिंग कॉस्ट कम हो जाएगी। यह फायदा यूजर्स को हो सकता है।

स्मार्टवॉच, फिटनेस बैंड: सस्ता होने की संभावना

स्मार्टवॉच के कुछ हिस्सों को 31 मार्च, 2023 तक कस्टम ड्यूटी में छूट मिलती रहेगी। इससे निर्माताओं को लागत में लाभ होगा और इसके चलते स्मार्टवॉच की कीमतों में गिरावट आ सकती है।

वायरलेस ईयरबड: महंगा होने की संभावना

मैन्यूफैक्चरिंग में इस्तेमाल होने वाले पार्ट्स पर इम्पोर्टट ड्यूटी को बढ़ा दिया गया है और इससे प्रोडक्शन कॉस्ट में वृद्धि हो सकती है। यूजर्स को वायरलेस ईयरबड्स, नेकबैंड हेडफोन और इसी तरह के अन्य गैजेट्स के लिए अधिक भुगतान करना पड़ सकता है।

प्रीमियम हेडफोन: महंगा होने की संभावना

हेडफोन के डायरेक्ट इम्पोर्ट पर अब 20% का ज्यादा शुल्क लगेगा, जिसका मतलब है कि उपभोक्ता उनके लिए अधिक भुगतान कर सकते हैं।

रेफ्रिजरेटर: महंगा होने की संभावना

कम्प्रेसर में इस्तेमाल होने वाले पार्ट्स पर इम्पोर्ट ड्यूटी को बढ़ा दिया गया है। इसका मतलब है कि देश में रेफ्रिजरेटर की कीमत अधिक होने की संभावना है।

कीमतों में बदलाव कब से लागू हो सकता है

1 अप्रैल से नई घोषणाएं लागू होंगी। इस पर निर्भर करते हुए किअगर कंपनियां नई लाभों को यूजर्स तक पहुंचाती हैं तो कुछ इलेक्ट्रॉनिक्स प्रोडक्ट्स की कीमत कम हो सकती है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here