Taliban News: काबुल एयरपोर्ट पर कब्जे को लेकर इतना बेचैन क्यों हैं एर्दोगन, तुर्की बोला- तालिबान से कर रहे हैं बात

0
40

अंकारा: अफगानिस्तान में तालिबान (Taliban News) की सत्ता में वापसी के बावजूद तुर्की काबुल एयरपोर्ट (Hamid Karzai International Airport) के संचालन को लेकर बेचैन है। तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसोग्लू (Turkey Taliban Relations) ने कहा है कि काबुल एयरपोर्ट के संचालन को लेकर तालिबान के साथ बातचीत अभी भी चल रही है। उन्होंने बताया कि एक दिन पहले ही दक्षिणी तुर्की में कार्यवाहक अफगान विदेश मंत्री आमिर खान मुत्ताकी से मुलाकात की है। खुद तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैयप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan) काबुल एयरपोर्ट पर तुर्की के अधिपत्य को लेकर अपनी इच्छा जता चुके हैं।

अफगान प्रवासियों को वापस भेजना चाहता है तुर्की
तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसोग्लू ने कहा कि तालिबान नेताओं ने वादा किया है कि वे तुर्की से अफगान प्रवासियों की वतन वापसी में हर संभव मदद करेंगे। दोनों देशों ने प्रवासियों की बढ़ती लहर को रोकने पर भी बातचीत की। तुर्की में लगभग 40 लाख प्रवासी रहते हैं, इनमें से ज्यादातर सीरियाई हैं। अगस्त में अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद बड़ी संख्या में अफगान भी शरणार्थी के रूप में तुर्की में घुसे हैं। वहीं, तुर्की का कहना है कि वह अब और अधिक शरणार्थियों को बर्दाश्त नहीं कर पाएगा।

Sirajuddin Haqqani: दुनिया के सामने पहली बार आया तालिबान का इनामी गृहमंत्री सिराजुद्दीन हक्‍कानी, पाकिस्‍तान को दिया झटका
तालिबान के साथ संबंध बढ़ा रहा तुर्की
तुर्की ने अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भी अपना दूतावास बनाए रखा था। वहीं नाटो के बाकी सहयोगी देशों ने काबुल में अपने दूतावास को बंद कर दिया था। तुर्की ने कई मौकों पर दूसरे यूरोपीय देशों से तालिबान के साथ रिश्ते बनाने का आग्रह भी किया है। तुर्की के विदेश मंत्री ने अगले कुछ महीने में अफगानिस्तान का दौरा करने का भी ऐलान किया है।

navbharat times
Taliban Video : पाकिस्तान ने अफगानिस्तान भेजा सड़ा गेहूं ! तालिबान ने कहा- कीड़े खा गए अनाज, हमारे किसी काम का नहीं
काबुल एयरपोर्ट पर कब्जा क्यों चाहता है तुर्की
काबुल एयरपोर्ट के संचालन करने के पीछे तुर्की की एक सोची समझी रणनीति है। तुर्की चाहता है कि इस एयरपोर्ट के संचालन के जरिए उसकी तालिबान के साथ नजदीकी और ज्यादा बढ़े। पूरा अफगानिस्तान अभी तक बाकी दुनिया के लिए नो फ्लाई जोन बना हुआ है। अफगानिस्तान का एयर स्पेस एक अंतरराष्ट्रीय एयर रूट है। ऐसे में काबुल में बैठकर तुर्की इस एयरस्पेस पर कब्जा जमा लेगा। इससे एशिया ही नहीं, बल्कि यूरोप में भी तुर्की की साख काफी ज्यादा बढ़ जाएगी।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here